Home » » Karva Chauth 2016 Vrat Vidhi In Hindi Punjabi English Language PDF

Karva Chauth 2016 Vrat Vidhi In Hindi Punjabi English Language PDF

Karva Chauth 2016 Vrat Vidhi In Hindi Punjabi English Language PDF 



Karva Chauth 2016 Vrat Vidhi In Hindi Punjabi English Language PDF: 
Karva Chauth is Most Celebrated in North India and also with the Sikh community. On the day of Karwa Chauth, women observe a day-long fast and pray for the good health and prosperity of their beloved, husbands or the would-be-husbands.if you are searching for the
Karva Chauth 2016 Vrat Vidhi
in Punjabi, Hindi, English, Marathi, Bengali  then you are on right site. Here you will get the Karwa Chauth Vrat Katha in many different languages like Marathi, Punjabi and Hindi.
महिलाओं के अखंड सौभाग्य का प्रतीक करवा चौथ व्रत की कथा कुछ इस प्रकार है- एक साहूकार के सात लड़के और एक लड़की थी। एक बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को सेठानी सहित उसकी सातों बहुएं और उसकी बेटी ने भी करवा चौथ का व्रत रखा। रात्रि के समय जब साहूकार के सभी लड़के भोजन करने बैठे तो उन्होंने अपनी बहन से भी भोजन कर लेने को कहा। इस पर बहन ने कहा- भाई, अभी चांद नहीं निकला है। चांद के निकलने पर उसे अर्घ्य देकर ही मैं आज भोजन करूंगी।साहूकार के बेटे अपनी बहन से बहुत प्रेम करते थे, उन्हें अपनी बहन का भूख से व्याकुल चेहरा देख बेहद दुख हुआ। साहूकार के बेटे नगर के बाहर चले गए और वहां एक पेड़ पर चढ़ कर अग्नि जला दी। घर वापस आकर उन्होंने अपनी बहन से कहा- देखो बहन, चांद निकल आया है। अब तुम उन्हें अर्घ्य देकर भोजन ग्रहण करो। साहूकार की बेटी ने अपनी भाभियों से कहा- देखो, चांद निकल आया है, तुम लोग भी अर्घ्य देकर भोजन कर लो। ननद की बात सुनकर भाभियों ने कहा- बहन अभी चांद नहीं निकला है, तुम्हारे भाई धोखे से अग्नि जलाकर उसके प्रकाश को चांद के रूप में तुम्हें दिखा रहे हैं।साहूकार की बेटी अपनी भाभियों की बात को अनसुनी करते हुए भाइयों द्वारा दिखाए गए चांद को अर्घ्य देकर भोजन कर लिया। इस प्रकार करवा चौथ का व्रत भंग करने के कारण विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश साहूकार की लड़की पर अप्रसन्न हो गए। गणेश जी की अप्रसन्नता के कारण उस लड़की का पति बीमार पड़ गया और घर में बचा हुआ सारा धन उसकी बीमारी में लग गया।साहूकार की बेटी को जब अपने किए हुए दोषों का पता लगा तो उसे बहुत पश्चाताप हुआ। उसने गणेश जी से क्षमा प्रार्थना की और फिर से विधि-विधान पूर्वक चतुर्थी का व्रत शुरू कर दिया। उसने उपस्थित सभी लोगों का श्रद्धानुसार आदर किया और तदुपरांत उनसे आशीर्वाद ग्रहण किया।इस प्रकार उस लड़की के श्रद्धा-भक्ति को देखकर एकदंत भगवान गणेश जी उसपर प्रसन्न हो गए और उसके पति को जीवनदान प्रदान किया। उसे सभी प्रकार के रोगों से मुक्त करके धन, संपत्ति और वैभव से युक्त कर दिया।कहते हैं इस प्रकार यदि कोई मनुष्य छल-कपट, अहंकार, लोभ, लालच को त्याग कर श्रद्धा और भक्तिभाव पूर्वक चतुर्थी का व्रत को पूर्ण करता है, तो वह जीवन में सभी प्रकार के दुखों और क्लेशों से मुक्त होता है और सुखमय जीवन व्यतीत करता है।
karva chauth 2016 vrat vidhi, karva chauth puja process fro womens, karwa chauth katha in hindi karva chauth 2016 vrat vidhi, karva chauth puja process fro womens, karwa chauth katha in hindi karva chauth 2016 vrat vidhi, karva chauth puja process fro womens, karwa chauth katha in hindi karva chauth 2016 vrat vidhi, karva chauth puja process fro womens, karwa chauth katha in hindi
karva chauth 2016 vrat vidhi, karva chauth puja process fro womens, karwa chauth katha in hindi

 


0 comments:

Post a Comment

This site is not affiliated or associated with mdsu Officials in any manner.